कनाडा में भारतीय किसान बिल को लेकर 4,000 लोग इकट्ठा हुए. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

कनाडा में भारतीय किसान बिल को लेकर 4,000 लोग इकट्ठा हुए. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Protest in Canada Over Kisan Bill: कनाडा में रविवार को भारत में किसान बिल (Kisan Bill) के विरोध में प्रदर्शन (Protest) करने के लिए एकत्र हुए लगभग 4,000 प्रदर्शनकारियों इकट्ठा हो गए. पुलिस ने 13 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. भारतीय उच्चायोग (Indian High Commission) ने स्कॉटलैंड यार्ड से सुरक्षा को लेकर सवाल उठाए.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    December 7, 2020, 12:15 PM IST

टोरंटो. कनाडा में भारतीय उच्चायोग (Indian High Commission) ने रविवार को भारत में किसान बिल (Kisan Bill) के विरोध में प्रदर्शन करने के लिए एकत्र हुए लगभग 4,000 प्रदर्शनकारियों के इकट्ठा (Protest) होने पर स्कॉटलैंड यार्ड (Scotland Yard) द्वारा प्रदान की गई सुरक्षा पर सवाल उठाया. भारतीय उच्चायोग ने इन प्रदर्शनकारियों में से कुछ पर भारत विरोधी तत्व होने का भी आरोप लगाया. स्कॉटलैंड यार्ड ने एक व्यक्ति और तीन किशोरों सहित 13 लोगों को गिरफ्तार किया. इसके साथ ही मोटरचालकों को सेन्ट्रल लंदन में स्थित भारतीय मिशन के आसपास के क्षेत्र से दूर रहने की सलाह दी.

विरोध के दौरान सुरक्षा को लेकर उठे सवाल

भारतीय हाई कमीशन के आसपास ब्रिटेन के विभिन्न हिस्सों से आए हजारों लोग जुटे जिसके कारण कुछ घंटों के लिए इलाके में ट्रैफिक जाम हो गया. पुलिस ने गिरफ्तार किए गए लोगों में से चार को बाद में उनके द्वारा अपने बारे में सभी सूचनाएं देने के बाद जुर्माना लगा कर छोड़ दिया. कोविड -19 के कारण लगे प्रतिबंधों के बावजूद प्रदर्शनकारियों को अनुमति दिए जाने के बाद भारतीय दूतावास ने सुरक्षा व्यवस्था पर कड़ी निराशा व्यक्त की.

भारतीय राजनयिक विश्वेश नेगी की शिकायतभारतीय राजनयिक विश्वेश नेगी ने कहा कि उच्च आयोग को सूचित किया गया था कि सामान्य अभ्यास के नियमानुसार लगभग 40 वाहनों से जुड़े ड्राइव-पास्ट विरोध प्रदर्शन की अनुमति मांगी गई थी. हमें बताया गया था कि पुलिस ने 30 से अधिक लोगों के इकट्ठा होने के खिलाफ विशेष चेतावनी दी थी. नेगी ने यह भी कहा है कि इस स्थिति को ब्रिटेन के विदेश कार्यालय और गृह मंत्रालय कार्यालय के ध्यान में लाया गया है.

‘प्रदर्शन का नेतृत्व भारत विरोधी अलगाववादियों ने किया था’

नेगी ने कहा कि इस प्रदर्शन का नेतृत्व भारत विरोधी अलगाववादियों ने किया था, जिन्होंने खेत विरोध का अवसर भारत में किसानों को वापस करने के लिए नहीं बल्कि अपने स्वयं के एजेंडे को आगे बढ़ाने के अवसर का उपयोग किया था”।लंदन मेट्रोपॉलिटन पुलिस ने भीड़ को नियंत्रित किया और हिंसक तत्वों को गिरफ्तार भी किया.

ये भी पढ़ें: UK: क्वीन एलिजाबेथ को सबसे पहले लगेगा टीका, मंगलवार से होगा मास वैक्सीनेशन

ईरान ने परमाणु वैज्ञानिक की हत्या का लिया बदला? इजरायल के ‘मोसाद कमांडर’ की हत्या का वीडियो वायरल

ट्राफलगर स्क्वायर पर भी कुछ प्रदर्शन हुए. लंदन के विभिन्न हिस्सों से रिपोर्ट और राजधानी में कुछ संपर्क सड़कों पर भी ट्रैफिक जाम देखा गया क्योंकि झंडे और तख्तियों वाली कारें प्रदर्शनकारियों द्वारा विभिन्न स्थानों से आ रही थीं. भारतीय अधिकारियों ने हाल ही में ब्रिटिश सरकार और संसद में कृषि क्षेत्र के सुधारों की बुनियादी विशेषताओं पर जानकारी दी थी.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »