• Hindi News
  • Business
  • Dabur Honey Ad Vs Marico; Advertising Standards Council Of India (ASCI) Against Each Other

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई19 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

मैरिको और डाबर दोनों कंपनियां शहद से संबंधित एक दूसरे के विज्ञापनों को झूठा साबित करने में लगी हैं। दोनों ने एक दूसरे के खिलाफ शिकायत भी दर्ज कराई है

  • सफोला अपने सभी पैकेजिंग स्थानों में अपने शहद की शत प्रतिशत शुद्धता की गारंटी देता है
  • CSE ने हाल में अपनी जांच में पाया था कि ज्यादातर ब्रांड के शहद टेस्ट में फेल हो गए हैं

FMCG सेक्टर की दो प्रतिद्वंदी कंपनियों डाबर और मैरिको के बीच शहद की शुद्धता को लेकर विज्ञापनबाजी शुरू हो गई है। दोनों में शहद उत्पादों को लेकर विज्ञापन युद्ध छिड़ गया है। इससे दोनों कंपनियां एक दूसरे के विज्ञापनों को झूठा साबित करने में लगी हैं।

मैरिको ने की शिकायत

उधर दूसरी ओर मैरिको ने एडवर्टाइजिंग स्टैंडर्ड काउसिंल ऑफ इंडिया (ASCI) में शिकायत दर्ज कराई है। डाबर भी विज्ञापन नियामक से मैरिको के सफोला शहद के नमूनों के बारे में शिकायत दर्ज कराने की सोच रही है। यह विज्ञापन सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरमेंट (CSE) के उस रिपोर्ट के बाद शुरु हुआ है जिसमें बताया गया है कि डाबर, पतंजलि, बैद्यनाथ, झंडू, हितकारी और एपीआईएस हिमालया सहित शहद के दस ब्रांड शुगर सिरप की मिलावट कर रहे हैं। ये सभी न्यूक्लियर मैग्नेटिक रेइंस स्पेक्ट्रोस्कोपी (NMR) टेस्ट में फेल हो गए। CSE की रिपोर्ट को इन ब्रांड्स ने हालांकि नकार दिया है।

डाबर के दावे को चुनौती

मैरिको के प्रवक्ता ने कहा कि मैरिको ने 3 दिसंबर को ASCI के पास शिकायत दर्ज कराई। इसमें डाबर के इस दावे को चुनौती दी गई है कि डाबर हनी ने NMR टेस्ट पास कर लिया है। शिकायत को ASCI ने स्वीकार कर लिया है और आगे की सुनवाई के लिए रिकार्ड में ले लिया है। कंपनी ने अपने उत्पाद डाबर हनी के लिए एनएमआर में जांच की गई शुद्ध शहद के मैरिको के दावे के खिलाफ एएससीआई के पास अक्टूबर में एक इंट्रा इंडस्ट्री शिकायत दायर की थी। इस दावे को ASCI ने बरकरार रखा था।

मैरिको के खिलाफ शिकायत

डाबर ने यह भी कहा कि यह मैरिको के खिलाफ शिकायत दर्ज कर रहा है। क्योंकि सफोला हनी सैंपल एनएमआर टेस्ट में फेल रहा है। एनएमआर टेस्ट पर उनका दावा ग्राहकों को गुमराह कर रहा है। डाबर ने कहा कि उसने स्वेच्छा से एनएमआर परीक्षण समय-समय पर कराने के अलावा एसएमआर सहित सभी 22 एफएसएसएआई-अनिवार्य परीक्षणों को पास कर लिया है। डाबर इंडिया के प्रवक्ता ने कहा कि यही कारण है कि डाबर हनी दुनिया का सबसे बड़ा बिकने वाला शहद ब्रांड है।

यह सभी यूरोपीय और अमेरिकी नियमों पर खरा उतरता है। यह दुनिया भर के 15 से अधिक देशों में बेचा जा रहा है।

सफोला की गारंटी

मैरिको के प्रवक्ता ने भी कहा कि सफोला अपने सभी पैकेजिंग स्थानों में अपने शहद की शत प्रतिशत शुद्धता की गारंटी देता है। मैरिको के प्रवक्ता ने कहा कि सफोला हनी का हर बैच एनएमआर तकनीक सहित 60 से ज्यादा परीक्षणों से गुजरता है और साथ ही साथ, इसका उत्पादन USFDA पंजीकृत संयंत्र में किया जाता है।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »